Skip to main content

कौन-से भगवान की करनी चाहिए कितनी परिक्रमा, ध्यान रखें ये जरूरी बातें, -पुराणिक ग्रन्थ

पूजा करते समय देवी-देवताओं की परिक्रमा की जाती है। शास्त्रों में बताया गया है भगवान की परिक्रमा से अक्षय पुण्य मिलता है और पाप नष्ट होते हैं। इस परंपरा के पीछे धार्मिक महत्व के साथ ही वैज्ञानिक महत्व भी है। जिन मंदिरों में पूरे विधि-विधान के साथ देवी-देवताओं की मूर्ति स्थापित की जाती है, वहां मूर्ति के आसपास दिव्य शक्ति हमेशा सक्रिय रहती है। मूर्ति की परिक्रमा करने से उस शक्ति से हमें भी ऊर्जा मिलती है। इस ऊर्जा से मन शांत होता है। जिस दिशा में घड़ी की सुई घुमती है, उसी दिशा में परिक्रमा करनी चाहिए, क्योंकि दैवीय ऊर्जा का प्रवाह भी इसी प्रकार रहता है।

-------------------------------------

किस भगवान की कितनी परिक्रमा करना चाहिए

शास्त्रों के अनुसार श्रीकृष्ण की 3 परिक्रमा करनी चाहिए। देवी की 1 परिक्रमा करनी चाहिए। शिवजी की आधी परिक्रमा करनी चाहिए, क्योंकि शिवजी के अभिषेक की धारा को लाघंना अशुभ माना जाता है।

परिक्रमा करते समय ध्यान रखनी चाहिए ये बातें

1. जिस देवी-देवता की परिक्रमा की जा रही है, उनके मंत्रों का जप करना चाहिए।

2. भगवान की परिक्रमा करते समय मन में बुराई, क्रोध, तनाव जैसे भाव नहीं होना चाहिए।

3. परिक्रमा नंगे पैर ही करना चाहिए।

4. परिक्रमा करते समय बातें नहीं करना चाहिए। शांत मन से परिक्रमा करें।

5. परिक्रमा करते समय तुलसी, रुद्राक्ष आदि की माला पहनेंगे तो बहुत शुभ रहता है।

Comments

Popular posts from this blog

ये हैं श्मशान व तंत्र साधना से जुड़ी ये 5 बातें, क्या जानते हैं आप?

तंत्रक्रियाओंकानामसुनतेहीजहनमेंअचानकश्मशानकाचित्रउभरआताहै।जलतीचिताकेसामनेबैठातांत्रिक, अंधेरीरातऔरमीलोंतकफैलासन्नाटा।आखिरक्योंअधिकांशतंत्रक्रियाएंश्मशानमेंहीकीजातीहैं।यदिआपकेमनमेंभीये

अगर आप आर्थिक रूप से परेशान रहते है अनाश्वयक व्यवसाय के कारण हर महीने आपका बजट बिगड़ रहा है तो करे ये उपाय

क्या आप जानते हैं अघोरियों से जुड़ी ये बातें, रहस्यमयी है इनकी दुनिया- पौराणिक कथाओ अनुसार

कौन होते हैं अघोरी?-------------------------------------अघोर पंथ हिन्दू धर्म का एक समुदाय है जिसका पालन करने वाले अघोरी के नाम से जाने जाते है. 
अघोर पंथियो के उत्तपति के संबंध में कोई कुछ नहीं जनता परन्तु इन्हे कपालिक सम्प्रदाय के 
समान ही मान्यता दी गई है. अघोरी भगवान शिव के सबसे सुन्दर पांच रूपों में से एक है . अघोरियों को सबसे
प्राचीन धर्म ”शैव” (शिव साधक) से जुड़ा हुआ माना गया है तथा इनका अपना ही अलग विधान, अलग जीवन शैली तथा अलग अपनी ही बनाई विधियां होती है. इनका जीवन बहुत ही कष्टमय और कठिन मार्गो से भरा होता है तथा इनकी साधना विधि भगवान शिव को पूजे जाने वाले अन्य साधनाओ से बहुत ही भिन्न व रहस्मयी होती है. इन्हे अघोरी कहने के पीछे यह कारण है की ये घोर नहीं होते यानि की ये स्वभाव से बहुत ही सहज और सरल होते है तथा हर किसी के लिए इनकी भवना एक समान होती है.
अघोरी हमेशा से लोगों की  जिज्ञासा का विषय रहे हैं।  
------------------------------------- अघोरियों का जीवन जितना कठिन है, उतना रहस्यमयी भी है। अघोरियों की साधना विधि सबसे ज्यादा रहस्यमयी है। उनकी अपनी शैली, अपनाविधान है, अपनी  अलग  ही …