Skip to main content

ये हैं शनिदेव के 9 वाहन, कोई बनाता है मालामाल तो कोई कंगाल

ज्योतिषियों के अनुसार,जनवरी 2017 को शनि राशि परिवर्तन कर तुला से मकर में प्रवेश करेगा। इसका असर सभी राशियों पर अलग-अलग दिखाई देगा। ज्योतिष शास्त्र में शनि को न्यायाधीश कहा गया है यानी मनुष्यों के अच्छे-बुरे कामों का फल शनिदेव ही उसे देते हैं। शनिदेव जिस वाहन पर सवार होकर किसी की राशि में प्रवेश करते हैं, उसी के अनुसार उसे अच्छे-बुरे फल की प्राप्ति होती है।


-------------------------------------


शनि चालीसा में शनिदेव के 7 वाहनों के बारे में बताया गया है। इसके अलावा शनिदेव के अन्य वाहन भी हैं। मान्यता है कि शनिदेव जिस वाहन पर सवार होकर किसी की राशि में जाते हैं तो उस वाहन के अनुसार ही उसे फल प्राप्त होते हैं। शनिदेव के वाहनों की जानकारी इस प्रकार है-

-------------------------------------


1.
सवारी हाथी:- ज्योतिष के अनुसार, जब शनिदेव हाथी पर सवार होकर  आते है तो उनके साथ धन की देवी लक्ष्मि का भी आगमन होता है 

-------------------------------------

2. सवारी गधा;- शनिदेव जब गधे पर सवार होकर किसी की राशि में प्रवेश करते है तो उसके बनते काम भी नष्ट हो जाते है, हानि ही हानि होती है 

-------------------------------------

3.सवारी शेर;- शेर पर शनिदेव की सवारी का राज काज व् समाज में प्रसिद्धि व् यश देती है मन सम्मान मिलता है 

-------------------------------------

4.सवारी सियार;- जब शनिदेव सियार पर बैठकर आते है तो व्यक्ति की बूढी नष्ट हो जाती है धन व् यश का नाश हो जाता है 

-------------------------------------

5.सवारी हिरन;- हिरन पर सवार होकर जब शनिदेव आते है तो मुत्यु के सामान कष्ट झेलने पड़ते है सब कुश नष्ट हो जाता है 

-------------------------------------

6.सवारी कुत्ता;- शनिदेव जब कुत्ते पर सवारी करते है तब अत्यंत भय व् दुःख होता है घर में चोरी का भय रहता है

-------------------------------------

7.सवारी गिद्ध;- ज्योतिष के अनुसार, जब शनिदेव गिद्ध पर सवार होकर आते है तो व्यक्ति अनेक रोगों से परेशां रहता है 

-------------------------------------

8.सवारी भैंस;- शनिदेव की भैंसे की सवारी धन धन्य व् समुद्धि देने वाली होती है दांपत्य सुख में बृद्धि व् चिंताओं से मुक्ति मिलती है 

-------------------------------------

9. सवारी कौआ;- कौए पर सवार शनिदेव समस्त रोगों व् दुखो व् दर्द भरे जीवन से व्यक्ति को अभय प्रदान करते है 

-------------------------------------










Comments

Popular posts from this blog

ये हैं श्मशान व तंत्र साधना से जुड़ी ये 5 बातें, क्या जानते हैं आप?

तंत्रक्रियाओंकानामसुनतेहीजहनमेंअचानकश्मशानकाचित्रउभरआताहै।जलतीचिताकेसामनेबैठातांत्रिक, अंधेरीरातऔरमीलोंतकफैलासन्नाटा।आखिरक्योंअधिकांशतंत्रक्रियाएंश्मशानमेंहीकीजातीहैं।यदिआपकेमनमेंभीये

अगर आप आर्थिक रूप से परेशान रहते है अनाश्वयक व्यवसाय के कारण हर महीने आपका बजट बिगड़ रहा है तो करे ये उपाय

क्या आप जानते हैं अघोरियों से जुड़ी ये बातें, रहस्यमयी है इनकी दुनिया- पौराणिक कथाओ अनुसार

कौन होते हैं अघोरी?-------------------------------------अघोर पंथ हिन्दू धर्म का एक समुदाय है जिसका पालन करने वाले अघोरी के नाम से जाने जाते है. 
अघोर पंथियो के उत्तपति के संबंध में कोई कुछ नहीं जनता परन्तु इन्हे कपालिक सम्प्रदाय के 
समान ही मान्यता दी गई है. अघोरी भगवान शिव के सबसे सुन्दर पांच रूपों में से एक है . अघोरियों को सबसे
प्राचीन धर्म ”शैव” (शिव साधक) से जुड़ा हुआ माना गया है तथा इनका अपना ही अलग विधान, अलग जीवन शैली तथा अलग अपनी ही बनाई विधियां होती है. इनका जीवन बहुत ही कष्टमय और कठिन मार्गो से भरा होता है तथा इनकी साधना विधि भगवान शिव को पूजे जाने वाले अन्य साधनाओ से बहुत ही भिन्न व रहस्मयी होती है. इन्हे अघोरी कहने के पीछे यह कारण है की ये घोर नहीं होते यानि की ये स्वभाव से बहुत ही सहज और सरल होते है तथा हर किसी के लिए इनकी भवना एक समान होती है.
अघोरी हमेशा से लोगों की  जिज्ञासा का विषय रहे हैं।  
------------------------------------- अघोरियों का जीवन जितना कठिन है, उतना रहस्यमयी भी है। अघोरियों की साधना विधि सबसे ज्यादा रहस्यमयी है। उनकी अपनी शैली, अपनाविधान है, अपनी  अलग  ही …