Skip to main content

पैसे की तंगी बनी रहती है तो घर में लाएं यह चीजें, म‌िलेगी देवी लक्ष्मी की कृपा, पौराणिक कथाओ अनुसार

पैसों की तंगी से परेशान रहते हैं तो इसकी वजह कहीं  कहीं आपके घर का वास्तु दोष भी होगा। क्योकि‌ जिन घरों में वास्तु दोष होता है वहां परेशानी बनी ही रहती है चाहे आप ज्यादा कमाएं या कम। जबकि वास्तु दोष में कमी होने पर कम कमाई में भी बरकत होती है और आप उनती की  ओर बढ़ते रहते हैं। इसलिए घर को वास्तुदोष से मुक्त रखने के लिए आप अपने घर में इन वस्तुओं को लाएं कुछ ही नों में आपको लाभ नजर आने लगेगा।

-------------------------------------

अपने घर में धन की गठरी पकड़े लाफिंग बुद्धा रखें लाफिंग बुद्धा को समृद्धि का देवता कहा जाता है। कहते हैं इसे घर में रखने से आर्थिक परेशानी दूर होती है और घर में समृद्धि आती है। लाफिंग बुद्धा को घर के उत्तर पश्चिम कोण में रखें।

-------------------------------------

विंड चाइम घर में लगाने से घर के वास्तु दोष दूर होते हैं। इनकी घंटियों की आवाज से घर की सारी नकारात्मक ऊर्जा  दूर होती है और सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है।

-------------------------------------

नौकरी और घर में बरकत हो इसके लिए सोने के सिक्कों वाला एक समुद्री जहाज ला कर रखें। सिक्कों से भरा समुद्री जहाज सफलता का प्रतीक माना जाता है। लोग मानते हैं कि इसको घर के अंदर की ओर आता हुआ रखने से घर में समृद्धि आती है।

-------------------------------------

चाइनीज सिक्कों को फेंगशुई में बहुत अहम माना गया है। इन्हें आय का स्त्रोत माना जाता है। इनको लाल रिबन में बांध कर घर में रखने से आय में वृद्धि होती है। वैसे तो ये आसानी से बाजार में उपलब्ध हैं लेकिन अगर आपको यह ढूंढने में दिक्कत हो रही है तो आप इनकी जगह तांबे की गोल पट्टियों में छेद करके भी इन्हें खुद तैयार कर सकते हैं।

-------------------------------------

Comments

Popular posts from this blog

कहीं आप भी तो नही करते घर मे बने मंदिर मे यह गलतियाँ

सनातन धर्म में कहा गया है कि घर में मंदिर के होने से सकारात्मक ऊर्जा उस घर में बनी रहती है. आज बेशक हम विकसित होने की राह पर हैं किन्तु आज भी हिन्दू लोगों ने अपने संस्कार और संस्कृति का त्याग नहीं किया है. घर चाहे छोटा हो, या बड़ा, अपना हो या किराये का, लेकिन हर घर में मंदिर जरूर होता है सभी घरों में देवी-देवताओं के लिए एक अलग स्थान होता है। कुछ घरों में छोटे-छोटे मंदिर बनवाए जाते हैं। लेकिन हम जानकारी के अभाव में मंदिर में कुछ ऐसी गलतियां कर देते हैं, जो कि अशुभ होती है। आज मै राघव आपको कुछ ऐसी बातें बताने जा रहा हूं, जो कि घर के मंदिरों में नहीं की जानी चाहिए।------------------------------------- घरकेमंदिरमेंसभीश्रीगणेशकीमूर्तियांतोरखतेहैं, लेकिनपूजाघरमेंकभीभीगणेशजीकी 3प्रतिमाएंनहींहोनाचाहिए।कहाजाताहैकिऐसाहोनेसहीनहींहोताहै।
-------------------------------------आपअपनेघरकेमंदिरमेंपूजाकरनेकेलिएशंखतोरखतेहीहोंगे, लेकिनकभीआपकेघरमेंदोशंखतोनहींहै।अगरमंदिरमेंदोशंखहैतोआपउनमेसेएकशंखहटादें। -------------------------------------घरकेमंदिरमेंज्यादाबड़ीमूर्तियांनहींरखनीचाहिए।बतायाजाताहैकियदिहम

ये हैं शनिदेव के 9 वाहन, कोई बनाता है मालामाल तो कोई कंगाल

ज्योतिषियोंकेअनुसार,जनवरी 2017 कोशनिराशिपरिवर्तनकरतुलासेमकरमेंप्रवेशकरेगा।इसकाअसरसभीराशियोंपरअलग-अलगदिखाईदेगा।ज्योतिषशास्त्रमेंशनिकोन्यायाधीशकहागयाहैयानीमनुष्योंकेअच्छे-बुरे

चाणक्य की 10 नीतियां- आपके सुखी जीवन के लिए है जरुरी

जन्म
Ø ईसापूर्व 375पंजाब (आज से 2392 साल पहले)
मृत्यु
Ø ईसापूर्व 283पाटलिपुत्र (आज से 2300 साल पहले)
निवास
Ø  पाटलिपुत्र
अन्य नाम
Ø  कौटिल्य, विष्णुगुप्त
विद्यालय
Ø  तक्षशिला
व्यवसाय
Ø  चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री
उल्लेखनीयकाम
Ø  अर्थशास्त्र, चाणक्यनीति


आचार्य  चाणक्य  तक्षशिला  के  गुरुकुल  में  अर्थशास्त्र  के  आचार्य  थे।चाणक्य राजनीति  में  भी   काफी  पारंगत  थे।  इनके  पिता  का  नाम  आचार्य  चणीक  था , इसी  वजह  से  इन्हें  चणी  पुत्र  चाणक्य  भी  कहा जाता  है।  चाणक्य  ने  कूटनीतिज्ञ  तरीके से  सम्राट  सिकंदर  को भारत  छोड़ने  पर  मजबूर  कर  दिया  था  और  चंद्रगुप्त  को  अखंड  भारत  का  सम्राट  भी  बनाया।  आचार्य  चाणक्य  ने  श्रेष्ठ  जीवन  के  लिए  चाणक्य  नीति  ग्रंथ  रचा  था। इसमें  दी  गई  नीतियों  का  पालन  करने  पर  जीवन में  सफलताएं  प्राप्त  होती  हैं।  यहां  जानिए  चाणक्य  की 10 खास  नीतियां ...-------------------------------------1:- सेवक को तब परखे, जब बह काम नहीं कर रहा हो, रिश्तेदार को किसी कठिनाई में, मित्र को संकट में और पत्नी को घोर बिपति में परखना चाहिए I
------------------…